Breaking

Translate

Monday, November 16, 2020

 Gog and Magog | Yajooj and Majooj | Yajooj Majooj Ki Dewar Kahan Hai Aur Kitni Gir Chuki Hai? | all of Gog Magog - Qayamat Ki Nishaniyan

Gog and Magog | Yajooj and Majooj | Yajooj Majooj Ki Dewar Kahan Hai Aur Kitni Gir Chuki Hai? | all of Gog Magog - Qayamat Ki Nishaniyan

بِسۡمِ اللّٰہِ الرَّحۡمٰنِ الرَّحِیۡمِ

अस्सलाम अलैकुम दोस्तों

नाज़रीने करम वैसे तो क़यामत की बेशुमार निशानिया हमारे हुज़ूर मुहम्मद मुस्तफा स्वल्लल्लाहो अलैहि वसल्लम ने अहादीस के तौर पर हमे ता की हैं और क़ुरान में भी बार है इसे हम तक पहुंचाया गया है। उन्ही बड़ी निशानियों में से एक निशानी है याजूज माजूज की क़ौम का इस सर ज़मीन पर फिसाद बरपा करना जिसको हरा सकने की ताक़त अल्लाह ने किसी को नहीं दी।


तो नाज़रीन आजकी इस पोस्ट में हम बात करने वाले हैं की कोण है ये याजूज माजूज ? ये कब ज़हूर पज़ीर होंगे ? अभी इस वक़्त ये कहाँ हैं ? और उन्हें किसने क़ैद किया हुआ हैं ?


लेहाज़ा पोस्ट को पूरी ज़रूर पढ़ें और इसे दोस्तों के साथ भी शेयर ज़रूर करें 


Who is Yajooj and Majooj in Islam?-Yajooj and Majooj

याजूज माजूज का ज़िक्र इल्हामी किताबों में इस तरह है की इस खून ख्वार मख्लूक़ को हज़रत ज़ुलक़रनैन अलैहिस्सलाम ने किसी नामालूम जगह दिवार तामीर कर के क़ैद कर दिया और बाक़ी दुनिया से उनका राब्ता ख़त्म कर दिया था, लेकिन क़यामत से पहले ये क़ौम अल्लाह की मर्ज़ी से इस दिवार में शगाफ़ करने में कामयाब हो जायेंगे, और ये जहाँ से भी गुज़रेंगे उस जगह को नेस्त नाबूद करते गुज़रेंगे या पूरी तरह बर्बाद कर देंगे।

Gog and Magog | Yajooj and Majooj | Yajooj Majooj Ki Dewar Kahan Hai Aur Kitni Gir Chuki Hai? | all of Gog Magog - Qayamat Ki Nishaniyan
Source of Photo httpswww.cinemablend.com


 इसी असना में ये क़ौम फिलिस्तीन की एक झील के पास पहुंचेंगे। इस झील का नाम तिब्रिया है जिसका ज़िक्र किताबों में भी मौजूद है। और ये उसका सारा पानी पी जायेंगे और उसके पीछे जब उनका आखरी गिरोह यहाँ पहुंचेगा तो उन्हें एक क़तरा भी नसीब ना होगा और वो कहेंगे या सोचेंगे की क्या कभी यहाँ पानी हुआ करता था?


तिब्रिया आज के दौर में इजराइल के एक शहर का नाम है और ये झील भी यहीं मौजूद है। ये इजराइल  मीठे पानी की झील है। जो 21 किलोमीटर लम्बी और13 किलोमीटर चौड़ी है 43 मिटेर गहरी है। आज इजराइल अपनी इस झील को सब से मोअत्तबर समझ रहा है, दर असल येही याजूज माजूज की मंज़िले मक़सूद है। और इसका ज़िक्र क़ुरान मजीद में भी है।


Where are Yajooj Majooj located?-Yajooj Majooj Ki Dewar Kahan Hai Aur Kitni Gir Chuki Hai?

अब आपके ज़हन में एक सवाल उठ रहा होगा की ये कौम  जिसे हम याजूज माजूज कहते हैं, ये हैं कौन और इस वक़्त कहाँ हैं? तो क़ुरान करीम की सूरह कहफ़ भी मौजूद है। और बहोत से मुफ़स्सेरीन ने इस बारे में बहोत सी हिकायत अपनी किताबों में लिखी हैं।


उनका कहना है की हज़रत ज़ुलक़रनैन सफर करते हुए एक जगह जा पहुंचे। जहाँ लोग इन याजूज माजूज के फिसाद से परेशान थे। कुछ मुफ़स्सेरीन का मानना है की वो जगह अज़रबैजान और अर्मेनिया के नज़दीक है जो एक पहाड़ी इलाक़ा है ऐसा माना जाता है की दो पहाड़ों के दरम्यान एक जगह है जहाँ से एक क़ौम नुमूदार होकर सारे खेत खलियान तबाह कर देती और जो उस खित्ते में आबाद थे उन्हें क़त्ल करतें और गुलाम बना कर अपने साथ लेजाते, हालाँकि उस जगह को लेकर मुफ़स्सेरीन और मुहक़्क़ेक़ीन में इख़्तेलाफ़ है। बहेर हाल असल जगह का इल्म  अल्लाह ही को और उसके रसूल , है। लेकिन क़ुरान की गवाही से हम यक़ीन रखते हैं की क़यामत के पहले ये ज़ाहिर ज़रूर होंगे।

 

खैर जब वहां के लोग हज़रत ज़ुलक़रनैन अलैहिस्सलाम मिले तो अर्ज़ करने लगे की क्या हम आपको कुछ रक़म जमा कर के दें, की आप हमारे और उनके दरमियान कोई रुकावट बनादे ये क़ौम याजूज माजूज कहलाती हैं। जिसका ज़िक्र अल्लाह तबारक तआला क़ुरान मजीद सूरेह कहफ़ आयात नंबर ९४ में इरशाद फरमाता है कीउन्होंने कहा, ज़ुलक़रनैन ! बेशक याजूज माजूज ज़मीन फिसाद मचाते हैं। तो क्या हम आपके लिए माल मुक़र्रर करदें ? इस पर के आप हम में और उनमें एक दिवार बनादे।


हज़रत ज़ुलक़रनैन ने जवाब दिया : वो जिस पर मेरे रब ने मुझे काबू दिया है बहेतर है लेहाज़ा तुम मेरी मदद ताक़त से करो मै तुम में और उनमे एक मज़बूत आड़ बनादु।


मेरे पास लोहे के तख्ते लाओ जिसे हज़रत ज़ुलक़रनैन ने दोनों पहाड़ों के दरमियान बराबर खड़ा कर दिया।, अब कहा इसे धुनको और इतना गरम करो की आग की मानिंद होजाये , यहाँ तक की जब इसे आग कर दिया , कहा लाओ मै इस पर गला हुआ ताम्बा उंडेल दूँ। ताकि ये दिवार मज़बूत बन जाये और इसकी चिकनाहट के सबब याजूज माजूज इस पर चढ़ ना सकें, और ना उसमे सुराख़ कर सके।


इस तरह ये एक ऐसी दिवार बन गयी की याजूज माजूज की क़ौम ना इस पर चढ़ सकती थी और नाही इसमें शगाफ़ कर सकती थीं।


तामीर के बाद हज़रत ज़ुलक़रनैन ने कहा ये मेरे रब की रहमत है , फिर जब मेरे रब का वादा आएगा इसे पाश पाश कर देगा, और मेरे रब का वादा सच्चा है।

लेहाज़ा तब से अब तक याजूज माजूज इस में लगे है की किसी तरह इस दिवार में सुराख़ कर दूसरी दुनिया के इंसानो से जा मिले।


Gog and Magog | Yajooj and Majooj | Yajooj Majooj Ki Dewar Kahan Hai Aur Kitni Gir Chuki Hai? | all of Gog Magog - Qayamat Ki Nishaniyan
Source Of Social Media


मुफ़स्सेरीन का मानना है की हज़रत ज़ुलक़रनैन ने जिन पहाड़ों के बीच ये दिवार क़ायम की थी कॉकेशियन माऊंटेन है जो दो समुंदरों यानि बहेरे असवत और कैस्पियन सी तक ये सिलसिला फैला हुआ है। और इस पहाड़ी सिलसिले में एक जगह बहोत ही बुलंद तरीन पहाड़ है इनके बीच वो वाहिद रास्ता है जहाँ से आ या जा सकतें हैं। लेकिन ये रास्ता मुकम्मिल तौर पर बर्फ से ढका हुआ है।  और और आजकी जदीद साइंस के मुताबिक इसके अंदर बहोत तादाद में ताम्बा और लोहे जैसी धानतें मौजूद है।


और हमे क़यामत की निशानियों वाली हदीसों से भी पता चलता है की आप स्वल्लाहो अलैहि वसल्लम ने इशारात दिए की जब क़ुर्बे क़यामत का ज़माना आएगा तो उस वक़्त ये दीवार गिर जाएँगी और ये ज़ालिम क़ौम जिसे हम याजूज माजूज कहते हैं दुनिया में फ़ैल जाएगी ये जहाँ से भी गुज़रेंगी तबाही फैलाएगी और सारी मख्लूक़ को अपने शर फसाद का निशाना बनाएंगी।


What will Yajuj and Majuj do?- Qayamat Ki Nishaniyan

और उनका ये गिरोह जब भागता हुआ तिब्रिया झील के क़रीब पहुंचेगा तो उसका सारा पानी पी लेगा और यहाँ तक की जब उनका आखरी गिरोह वह उस जगह पहुंचेगा तो कहेगा की क्या कभी यहाँ पानी हुआ करता था?


ये तिब्रिया झील आज इजराइल का सब से बड़ा पीने के पानी का  जरिया है जिसका ज़िक्र तौरात और इंजील में भी आया है। और मुख्तलिफ अहादीस में इस झील के पानी का तेज़ी से काम होना इस बात की तरफ इशारा है की याजूज माजूज के आने का वक़्त क़रीब है।

Gog and Magog | Yajooj and Majooj | Yajooj Majooj Ki Dewar Kahan Hai Aur Kitni Gir Chuki Hai? | all of Gog Magog - Qayamat Ki Nishaniyan
Source Of Photo httpswww.flickr.com



और रिवायतों में आता है की ये फीसादी क़ौम इसी झील के रास्ते बैतूल मुक़द्दस पहुंच कर ये एलान करेंगे की दुनिया पे हमने फ़तेह पा ली।


इसके बाद अल्लाह इनकी गर्दनो में एक कीड़ा पैदा कर देगा जिस वजह से इन सारी क़ौम की मौत वाकई हो जाएगी और इस ज़मीन पर ऐसी कोई जगह ना होगी जो इनकी लाशों से खाली होंगी।


फिर इसके बाद अल्लाह बारिश भेजेगा और अपने करम से सारी ज़मीन को साफ शफ़्फ़ाफ़ कर देगा।  फिर हज़रत इसा अलैहिस्सलम जो की इस वक़्त अपने मानने वालों के साथ एक पहाड़ी पर पनाह लिए होंगे वो ज़मीन पर वापिस उतर आएंगे और हर तरफ खुश हाली होगी।


हालाँकि नाज़रीन ये वाक़िया जब पेश आएगा उस पहले इमाम मेहँदी का ज़हूर हो चूका होगा और हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम का नुज़ूल भी हो चुका होंगा। और फ़ितने दज्जाल का भी आप ईसा अलैहिस्सलाम के हांथों खात्मा हो चुका होंगा। और अब सिर्फ इंतज़ार होगा सुर के फूंके जाने का।


नाज़रीन पोस्ट कैसी लगी कमेंट में अपनी राय का इज़हार ज़रूर करें और अगर पसंद आई हो तो दोस्त अहबाब को शेयर कर के हमे प्रमोशन में मदद करें , इन्शा अल्लाह फिर मुलाक़ात होगी ऐसे ही किसी नय टॉपिक में तब इजाज़त दे अपना और अपने अहबाब का खूब ख्याल रक्खें दुआ में याद रक्खें अल्लाह हाफिज

 

इस पोस्ट को वीडियो की शकल में देखने के लिए लिंक पर क्लिक करें

 


Islamic Wonders

***End***

और इसे भी पढ़ें

1

QAYAMAT KAB AYEGI | QAYAMAT KA BAYAN | HADEES SANAN IBN MAJA NO.4075 | IN HINDI | IN URDU | IN ENGLISH

2

MULK E SHAAM KE HALLAT, IMAM MEHNDI KA ZAHUR AUR SARKARE DO JAHAN KI PESHAN GOINYAN

3

HAIKALE SULEMANI | HAIKALE SULEMANI KYA HAI? | HAIKALE SULEMANI YAHUDI KYN TAAMIR KARNA CHAHTE HAIN ? | THE THIRD TEMPLE | ISLAMIC WONDERS

4

TABOOTE SAKINA KYA HAI? | YAHUDI TABOOTE SAKINA KYU DHOOND RAHE HAIN | TABOOT E SAKINA

5

अगर ये इंसान पैदा न होता तो शायद मुस्लिम 12वी सदी में ही ख़त्म होगये होते! | सुल्तान रुकनुद्दीन बाइबर्स | Sultan Ruknuddin Baybars | Sultan Bibers

अगर आप इस्लाम से रिलेटेड आर्टिकल्स पढ़ने का शौक़ रखते हैं तो आर्टिकल्स भी पढ़े

After 2023

मुसलमानों के उरूज का वक़्त करीब है

अल्लाह कितना बड़ा है ?

100 साल बाद फिर से जिंदा

इजराइली झंडे की हकीकत | और तुर्को का जवाब

No comments:

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.