Breaking

Translate

Featured Post

Muharram ul Haram 2021 | Is Muharram a happy festival? | What does Muharram mean? | मुहर्रमुल हराम 2021 | मुहर्रम का क्या मतलब है ?

Muharram ul Haram 2021 | Is Muharram a happy festival? | What does Muharram mean? | मुहर्रमुल हराम  2021 | मुहर्रम का क्या मतलब है ?

Sunday, August 23, 2020

Jab Eid ki Khushiyan Matam me Tabdil ho Gai thi | Muradabad Katle Aam 13 August 1980

Jab Eid ki Khushiyan Matam me tabdil Ho Gai  | Muradabad Katle Aam 13 August 1980


13 August 1980 Muradabad mein Musalmanon ka katle aam

Jab Eid ki Khushiyan Matam me tabdil Ho Gai thi

Azad Hindustan mein hua Kar le ram Jisey kabhi bhulaya nahin Ja sakta

Muradabad Katle aam 
(Muradabad Massacre)

 1984 Sikho ke katle aam aur 2002 musalmanon ke katle aam mein ek baat Common thi ki yahan dungai bhid ne Minorities ka katle aam kiya aur Police tamasha dekh rahi thi darasal Police khud hi inhe badhava de rahi thi.

Lekin ek katle aam aisa bhi tha jahan Minorities ka Khoon bahane wali dangai bhid nahin balki Khud Police thi Uttar Pradesh ka mash'hur shahar Muradabad jahan 40 saal pahle 1980 ke din Eid ka mauka tha subah subah ka waqt tha jab budhe jawan aur bacche naya libas pahankar khushi khushi Eid ki Namaz ada karne Shahar ke sabse bade Eidgah ja rahe the in bichare Musalmanon ko kya pata tha ki ye unki aakhri Namaz Hogi takriban 40,000 log is Eidgah mein Namaz ada kar rahe the.
Namaz ke Dauran kuchh suwaro (Pigs) ko Janbujh ke Namaziyo ki safo ke bich Chhod diya gaya taki Musalman is Baat se Bhadak Jaaye aur kuchh Violence Karen aur iska fayda Utha kar Police Unka katle aam karen Aur kuchh yuhi hua 
Musalmano aur PAC me behes ho gai, jissey hadkamp mach gai
Lekin PAC ne goliyan chalane me jitni jaldi ki ussey saaf nazar aa raha tha ki sab kuch preplan hai
Police Aur Uttar Pradesh Provincial Armed Constabulary - PAC ne bekasur aur nihatte Namaziyon per andhadhundh goliyan chalana shuru kar diya theek usi tarah Jis tarah Jallianwala bagh katle aam hua tha lekin Jallianwala bagh mein Aur Muradabad Eidgah mein Similarity yahin khatm nahin hoti ek aur Chiz Thi jo milti julti Thi aur vah Thi bahar nikalne ka rasta Jis tarah Jallianwala bagh mein bahar nikalne ke raste band kar Diye gaye the usi tarah Muradabad me bhi bahar nikalne wale sare raste band kar diye gaye the

BJP leader aur External Affairs Minister MJ Akbar uss waqt ek Young Journalist The apni Kitab Riot After Riot mein likha hai ki usdin Eidgah mein PAC ke javanon ne Eid ki Namaz padh rahe lagbhag 40,000 Musalmanon per Firing shuru kar di Thi Koi nahin jaanta ki kitne log mare gaye the lekin yah sabko pata Tha ki ye koi Hindu Muslim danga nahin Tha balki Musalmanon per PAC ka ek Preplanned katle aam Tha Jise bad mein is katle aam ko Hindu Muslim danga ka roop de diya gaya Tha Member Of Parliament Sayyad Shahbuddin Sahab Ne is katle aam ko Azad Hindustan ka Jallianwala bagh katle aam Kaha Tha

Ek dava Tha ki Musalman pathar chala rahe The sochne wali baat yeh hai ki Pathar chalane ke jurm mein goli markar 300 jaane Kaisi li Ja sakti hai 
dusra dava hai ki Musalmanon ke pass banduk Rifles vagaira jaise hathiyar The 
Sawal yeh hai ki jab Musalmanon ke pass banduk Rifles jaise hathiyar The to unhone pathar kyon chalayen

Jo partiyan aaj Media ko Hukumat ke Hathon Biki Hui kahati Hai un logon ko 40 Saal piche jakar dekhna chahiye ki Kis tarah se use waqt ke Hindi aur English Akbar Security Forces ke is jurm ko bacha rahe The Aur is katle aam ko Hindu Muslim dange ka naam dekar Government Aur Administration ko Clean chit bhi de rahe The

Times of India ne dawa kiya ki Musalman hathiyarband The Aur unhone Police per hamla kiya
Ek English Newspaper ne to yahan tak ke likh diya ki BSF Ke 4 Jawan mare gaye Aur 5 Ghayal hai Aur iske Mujrim Musalman hai
BSF ne is Farji Khabar ke khilaf alag alag ilakon mein Press Conference li Aur byan diya ki BSF ka koi bhi Jawan nahin mara Aur na hi Ghayal hua 

Communist Media bhi puri tarah Se Congress ke hak mein Batting kar rahi thi Romila Thapar ke bhai Romesh Thapar ho ya Krishna Gandhi sab ke sab is dangon per ulta Ilzaam vahan ke Musalmanon Ke sar per maar diya Tha.

dusri Aur MJ Akbar Aur Syed Shahabuddin ne alag hakikat byan ki

Shahabuddin ne likha 
1. Eidgah mein Koi barudih hathiyar yani banduk waghaira aate hue nahin dekha gaya
2. istemal kiye kartush nahin mile 
3. Police ke kisi bhi jawan ko koi goli nahin lagi na hi koi goli ka jakhm Tha 
4. Eidgah ke samne kisi bhi imarat per Koi Goli ka nishan nahin Tha 
5. bhagdadh ke bavjud Koi hathiyar banduk vagaira Eidgah mein nahin mila
6. agar Musalman hathiyar bandh The to unhone pathar kyon chalayen

akbar ne likha Muradabad ke Hindu Aur Musalman donon hi kisi ko bhi bataenge ki unke Shahar mein 13 August 1980 Ko Jo hua wo Hindu Muslim Danga nahin Tha balki Police Aur Musalmanon Ke bich takraav Tha lekin Police ne apne zalimana kartut par Parda dalne Ke Liye Jo kuchh hua uske bare mein jhut Kaha Aur Jhuthe mukadme Chalaye taki ye Namaz wale Vakya se Dhyan hatane ke liye kaam Karen
13 August ko Muradabad Communal nhi Tha lekin Police ne bad mein isey Communal banaa diya Akbar Ne yah bhi likha ki golibari ke bad Police Officers per hamla kiya Gaya aur gussaaye Musalmanon ne ek police chauki per hamla kiya Aur Jawabi amal me panch Logon Ko maar dala Chowki Eidgah se 5 kilometre dur Thi
Jis bheed ne is taraf march kiya usne raste mein aane wale kisi bhi Hindu ghar Aur dukaan ko koi nuksan nahin pahunchaya koi bhi munasib hakam akbar Aur Shahabuddin ki tahkik se muttafiq hoga

Use waqt Ke Chashmadid naujawan janab Tarik Farooqui Apne bahanoi (Jo Central Forces ke Afsar The) ke sath Muradabad Central forces Camp me thehre huye The unhone jo dekha woh byan kiya ki saikdon Musalmanon ko danga karne ke jurm mein PAC ne gali mohalla se uthaya Aur bus mein bhar ke PAC Premises Mein laya gaya joki Central Forces Camp k theek samne Tha Aur berahmi se pita gaya
 jab un logon ko bus se utaar rahe The tabhi unki pitaai shuru ho jaati Thi lathiyon se unke seer kandhe, per, pet Aur Chhati par vaar ho rahe The unmen se jyadatar bas se utar k kuchh hi Metre Duri Tak chalne ke bad khoon mein Bheeg rahe The
maine ek budhe Muslim aadami ki Safed Dadhi ko Uske sar Aur Chehre per lagi choto se behte Khoon se lal hote dekha lekin PAC ke Jawan abhi bhi pur sukun nahin The unme se ek ne Puri takat ke sath us budhe ki khoon mein Bhigi dadhi ko khincha jo nakabile bardasht dard Ke chalte buddhe aadami ne hosh kho diya Aur Bad mein mara gaya
PAC Campus Aur Central Forces ke Camp ko alag karne wali Fencing ke dusri taraf Khade hue kuchh metre ki Duri se Maine yeh sab Dekha Aur mai Bahot dar gaya

Bad Mein Muradabad ke logon ne bataya ki is dange Ka Plan Indira Gandhi ki Congress Ne Hi Banai Thi Kyunki wo apni January 1980 ke Election Ki Jeet ke bad Hindu vote bank tamir karna chahti thi unke liye Musalman jinhone 1977 mein Congress ka sath Chhod diya Tha ab Bharose Ke layak nahin The
Gujarat mein 2002 katle aam Ke dauran Narendra Modi ki tarah unhone bhi Musalmanon ko sabak sikhane ki koshish ki Thi

 Dange saal ke Aakhir tak Jari rahe Aur 2500 se jyada logon Ki jaan gai halaki aankada 400 logon ka bataya Gaya.

Allah Apne Habib ke Sadke un  Ahle Iman shahidon ke darJaat Buland farmaye Aur Hindustan mein Musalmanon per ho rahe Zulm ke khilaf Ladne ki Hamey Taufeeq Ata Farmaye

Aameen

–Aafaque Ahmed Razvi

Jab Eid ki Khushiyan Matam me tabdil Ho Gai thi | Muradabad Katle Aam 13 August 1980

        हिंदी में पढ़े

13 अगस्त 1980
मुरादाबाद कत्लेआम

जब ईद की खुशियाँ मातम में तब्दील हो गई थी

आज़ाद हिंदुस्तान में वो कत्लेआम जिसे कभी भुलाया नही जा सकता

मुरादाबाद कत्लेआम (Muradabad Massacre)
✍🏼आफाक़ रज़वी की कलम से

1984 सिखों के कत्लेआम और 2002 मुसलमानों के कत्लेआम में एक बात कॉमन थी कि यहाँ दंगाई भीड़ ने माइनॉरिटीज़ का कत्लेआम किया और पुलिस तमाशा देख रही थी, दरअसल पुलिस खुद इन्हें बढ़ावा दे रही थी।
लेकिन एक कत्लेआम ऐसा भी हुआ जहाँ माइनॉरिटीज़ का खून बहाने वाली दंगाई भीड़ नही बल्कि खुद पुलिस थी,
उत्तर प्रदेश का मशहूर शहर मुरादाबाद जहाँ 40 साल पहले 13 अगस्त 1980 के दिन ईद का मौका था, सुबह सुबह का वक्त था जब बूढ़े जवान और बच्चे नए लिबास पहन कर खुशी खुशी ईद की नमाज़ अदा करने शहर के सबसे बड़े ईदगाह में जमा हुए थे। इन बेचारे मुसलमानो को क्या पता था की ये उनकी आखरी नमाज़ होगी।
तकरीबन 40 हज़ार लोग इस ईदगाह में नमाज़ अदा कर रहे थे।
नमाज़ के दौरान कुछ सुवरों को जानबूझ के नमाज़ियों की सफो के बीच छोड़ दिया गया, ताकि मुसलमान इस बात से भड़क जाए और कुछ तशद्दुद करे और  इसका फायदा उठा के पुलिस उनका कत्लेआम करे। 
और हुआ भी कुछ यूं ही।
मुसलमानों और PAC के अफसरों में बहस हो गई हड़कंप मच गया, लेकिन जितनी जल्दी PAC ने गोली चलाई उससे साफ नजर आरहा था कि सब कुछ preplan है
 पुलिस और उत्तर प्रदेश प्रादेशिक आर्म्ड कॉन्स्टेबुलरी यानी पी ए सी (Provincial Armed Constabulary - PAC) ने बेकसूर और निहत्ते नमाज़ियों पर अंधाधुंध गोलियाँ चलाना शुरू कर दी।
ठीक उसी तरह जिस तरह जलियांवाला बाग कत्लेआम हुआ था।
लेकिन जलियांवाला बाग में और मुरादाबाद ईदगाह में मुशाहेबत यंही खत्म नही होती एक और चीज़ थी जो मिलती जुलती थी।
और वो थी बाहर निकलने वाला रास्ता,
जिस तरह जलियांवाला बाग में बाहर निकलने के सारे रास्ते बन्द कर दिए गए थे उसी तरह मुरादाबाद ईदगाह में भी बाहर निकलने वाले सारे रास्ते बन्द कर दिए गए थे।

भाजपा नेता और एक्सटर्नल अफेयर्स  मिनिस्टर एम जे अकबर उस वक़्त नौजवान जर्नलिस्ट थे, उन्होंने अपनी किताब Riot after Riot में लिखा है कि, “उस दिन ईदगाह में PAC के जवानो ने, ईद की नमाज़ पढ़ रहे लगभग चालीस हज़ार मुसलमानों पर फ़ायरिंग शुरू कर दि थी। कोई नहीं जानता कि कितने लोग मारे गए थे। लेकिन ये सबको पता है कि ये हिंदू-मुस्लिम दंगा नहीं था बल्कि मुसलमानों पर PAC का एक Preplanned कत्लेआम था, जिसे बाद में इस कत्लेआम को हिंदू-मुस्लिम दंगे का रूप दे दिया गया था”।

रुक्न पार्लियामेंट (सांसद) सैय्यद शहाबुद्दीन साहब ने इस कत्लेआम को आज़ाद हिंदुस्तान का जलिया वाला बाग कत्लेआम कहा था। 

एक दावा था कि मुसलमान पत्थर चला रहे थे
सोचने वाली बात ये है कि पत्थर चलाने के जुर्म में गोलियां मार के 300 जाने कैसे ली जा सकती है
दूसरा दावा था कि मुसलमानों के पास बंदूक राइफल वगैरा थे
सवाल ये है कि जब मुसलमानो के पास बंदूक राइफल थी तो उन्होंने पत्थर क्यों चलाये

जो पार्टियां आज मीडिया को हुकूमत के हाथों बिकी हुई कहती है उन लोगों को 40 साल पीछे जाकर देखना चाहिए कि किस तरह से उस वक़्त के हिंदी और अंग्रेज़ी अख़बार सेक्युरिटी फोर्सेज़ के इस जुर्म को बचा रहे थे और इस कत्लेआम को हिंदू-मुस्लिम दंगे का नाम देकर Government और administration की क्लीन चिट भी दे रहे थे। 

टाइम्स ऑफ इंडिया ने दावा किया कि मुसलमान हथियारबंद थे और उन्होंने पुलिस पर हमला किया।
एक अंग्रेज़ी अखबार ने तो यहां तक लिख दिया कि BSF के 4 जवान मारे गए और 5 घायल है और इसके मुजरिम मुसलमान है।
BSF ने इस फ़र्ज़ी खबर के खिलाफ मुल्क के अलग अलग इलाको में प्रेस कॉन्फ्रेंस ली और बयान दिया की BSF का कोई भी जवान नही मरा और न ही घायल हुआ।

कम्युनिस्ट मीडिया भी पूरी तरह से कांग्रेस के हक में बैटिंग कर रही थी, रोमिला थापर के भाई रोमेश थापर हो या कृष्णा गांधी, सब के सब ने इस दंगों पर उलटा इल्ज़ाम वहाँ के मुसलमानों के सर पर मढ़ दिया था।

दूसरी ओर, एम.जे. अकबर और सय्यद शहाबुद्दीन ने अलग हकीकत बयान किया।

 शहाबुद्दीन ने लिखा:
1. ईदगाह में कोई बारूदी हथियार यानी बंदूक वगैरा आते हुए नहीं देखा गया
2. इस्तेमाल किये कारतूस नहीं मिले
3. पुलिस के किसी भी जवान को कोई गोली या गोली का जख्म नहीं मिला
4. ईदगाह के सामने की कोई इमारत पर कोई गोली का निशान नहीं है
5. भगदड़ के बावजूद कोई हथियार बंदूक वगैरा ईदगाह में नही मिला
6. अगर मुसलमान हथियारबंद थे, तो उन्होंने पत्थर क्यों चलाये?”

अकबर ने लिखा:
मुरादाबाद के हिंदू और मुसलमान दोनों ही किसी को भी बताएंगे कि उनके शहर में 13 अगस्त, 1980 को जो हुआ, वो हिन्दू मुस्लिम दंगा नहीं था। ये पुलिस और मुसलमानों के बीच टकराव था। लेकिन पुलिस ने अपने ज़ालिमाना करतूत पर पर्दा डालने के लिए, जो कुछ हुआ उसके बारे में झूठ कहा, और झूठे मुकदमें चलाये जो नमाज़ वाले वाकया से ध्यान हटाने का काम करेंगे। 13 अगस्त को मुरादाबाद फिरकावाराना नहीं था, लेकिन पुलिस ने बाद में इसे फिरकावाराना बना दिया। ”
अकबर ने यह भी कहा कि गोलीबारी के बाद पुलिसअहलकारों पर हमला किया गया और गुस्साए मुसलमानों ने एक पुलिस चौकी पर हमला किया और जवाबी अमल में पांच लोगों को मार डाला। चौकी ईदगाह से 5 किलोमीटर दूर थी। जिस भीड़ ने इस ओर मार्च किया, उसने रास्ते मे आने वाले किसी भी हिंदू घर और दुकान को कोई नुकसान नही पहुचाया। कोई भी मुनासिब हकम, अकबर और शहाबुद्दीन की तहक़ीक़ से मुत्तफिक होगा।

उस वक़्त के चश्मदीद नौजवान तारिक फ़ारूकी अपने बहनोई (जो सेंट्रल फोर्सेस के अफसर थे) के साथ मुरादाबाद सेंट्रल फोर्सेस कैम्प में ठहरे हुए थे। उन्होंने जो देखा वो बयान किया कि
सैकड़ों मुसलमानों को दंगा करने के जुर्म में कुख्यात PAC ने गली मोहल्लों से उठाया और बसों में भरके PAC के आहते में लाया गया, जो की सेंट्रल फोर्सेस कैम्प के ठीक सामने था, और बेरहमी से पीटा गया.

जब लोगों को बसों से उतर रहे थे तभी उनकी पिटाई शुरू हो जाती थी, लाठियों से उनके सिर, कंधे, पैर, पेट और छाती पर वार हो रहे थे. उनमें से ज्यादातर बसों से कुछ ही मीटर की दूरी तक चलने के बाद खून में भीग रहे थे।
मैने एक बूढ़े मुस्लिम आदमी की सफेद दाढ़ी की उसके सर और चेहरे पर लगी चोटों से बहते खून से लाल होते देखा. लेकिन पीएसी के जवान अभी भी पुरसुकून नहीं थे। उनमें से एक ने पूरी ताकत के साथ उस बूढ़े की खून में भीगी दाढ़ी को खींचा. नाकाबिले बर्दाश्त दर्द के चलते बूढ़े आदमी ने होश खो दिया और बाद में मारा गया. 

 पीएसी कैम्प और सेंट्रल फोर्सेस के कैम्प को अलग करने वाली फैंसिंग के दूसरी तरफ़ खड़े हुए कुछ ही मीटर की दूरी से मैने ये सब देखा और मैं बहुत डर गया.

बाद में मुरादाबाद के लोगों ने बताया की इस दंगे का प्लान इंदिरा गांधी की कांग्रेस ने ही बनाई थी क्योंकि वो अपनी जनवरी 1980 के इलेक्शन की जीत के बाद हिंदू वोट बैंक तामीर करना चाहती थीं. उनके लिए मुसलमान, जिन्होंने 1977 में कांग्रेस का साथ छोड़ दिया था, अब भरोसे के लायक नहीं थे. गुजरात में 2002 कत्लेआम के दौरान नरेंद्र मोदी की तरह, उन्होने भी मुसलमानों को "सबक सिखाने" की कोशिश थी.

दंगे साल के आखिर तक जारी रहे और 2500 से ज़्यादा लोगों की जानें गयीं, हालांकि आंकड़ा सिर्फ 400 लोगो का बताया गया।

 अल्लाह अपने हबीब ﷺ के सदके उन अहले ईमान शहीदों के दरजात बुलंद फरमाए, और हिंदुस्तान में मुसलमानो पर हो रहे ज़ुल्म के खिलाफ लड़ने की हमे तौफीक अता फरमाए
आमीन
         –आफाक अहमद रज़वी

पोस्ट को शेयर जरूर करें

1 comment:

Please do not enter any spam link in the comment box.