Breaking

Translate

Monday, July 20, 2020



हज़रत औरंगज़ेब आलमगीर | Hazrat Aurangzeb Alalamgeer

بِسۡمِ اللّٰہِ الرَّحۡمٰنِ الرَّحِیۡمِ

हज़रत औरंगज़ेब आलमगीर | Hazrat Aurangzeb Alalamgeer


हज़रत औरंगज़ेब आलमगीर رحمة الله عليه

 उर्स के मौके पर एक खास पेशकश
✍🏼 आफाक रज़वी की कलम से

हज़रत अबुल मुज़फ़्फ़र मुहीउद्दीन मुहम्मद औरंगज़ेब गुरकान बहादुर आलमगीर
शहनशाहे हिंदिया ज़िंदा पीर

हिन्द की तारीख में 50 साल हुकूमत करने वाले एक ऐसे बादशाह गुज़रे है जिन्होंने हिन्द की अलग अलग रियासतों को मिला कर एक हिंदुस्तान बनाया जिसे हिंदी में अखण्ड भारत कहा जाता है, जिसमे आज का हिंद, पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान और कुछ हिस्सा बर्मा, चीन, तिब्बत, नेपाल, भूटान का आता था।
इतनी बड़ी सल्तनत के बादशाह होने के बावजूद भी आप बादशाहो जैसा नही रहे
आपने कभी सल्तनत की दौलत से रोटी नही खाई।
आप कुरान नक्श करते और उसका हदिया ले कर गुज़ारा करते साथ ही आप सिलाई का काम करते थे और उससे होने वाली आमदनी से घर का चुला जलता और कभी कभी अपनी बहन से पैसे उधार लेके तिजारत भी किया करते थे।
आपकी बीवी मलका ए हिन्द थीं
इतनी बड़ी सल्तनत के बादशाह की बीवी होने के बावजूद आप खुद चूल्हे पर खाना बनाती थी क्योंकि हज़रत ने खाना पकाने के लिए कोई नौकरानी या कनीज़ नही रखी थीं
एक दिन जब खाना पकाते वक़्त मलका साहिबा का हाथ चूल्हे में जल गया तो आप अपने शौहर बादशाह औरंगज़ेब से कहती है कि आज चूल्हे में मेरा हाथ जल गया मुझे एक कनीज़ दे दीजिए।
तो हुज़ूर औरंगज़ेब ने तारीखी जवाब देते हुए कहा
जिस दिन हिंदुस्तान की हर खातून को कनीज़ मिल जाएगी उसदिन तुम्हे भी कनीज़ मिल जाएगी।
क्योंकि हज़रत को ये नागवार गुज़रता था कि सल्तनत की सारी खातून खुद काम करे और मेरी बीवी का काम कनीज़ करे।

आप इतने इंसाफ पंसद थे कि इंसाफ के मामले में अपने भाई और वालिद के लिए भी वही फैसला किया जो किसी गैर के लिए करते।
एक बहौत प्यारा वाकिया है जिसे मुख्तसर में बताता चलु की एक बार आपने एक हिन्दू पंडित की बेटी की आबरू पर गंदी नज़र डालने वाले मुसलमान कोतवाल को मौत की सज़ा दी और उस बच्ची से अपनी बेटी की तरह पेश आये

हज़रत औरंगज़ेब आलमगीर | Hazrat Aurangzeb Alalamgeer

आपकी बहादुरी का एक मशहूर वाकिया है कि जब आपके दौर में अंग्रेज़ो ने मुम्बई पर कब्ज़ा कर लिया था तो आपने मुम्बई में अपना लश्कर भेज कर मुम्बई के किले का मुहासेरा करवाया और अंग्रेज़ो को इतनी बुरी तरह पटखनी दी कि अंग्रेज़ अफसरो ने आपके दरबार मे घुटने टेक कर गिड़गिड़ा के रो रो कर माफी मांगी इस बेइज़्ज़ती आवाज़ इंग्लैंड के पार्लियामेंट में भी गुंजी।
(ये रिपोर्ट खुद इंग्लैंड के न्यूज़ चैनल BBC ने शाया की है।)
आपके दौर में हिंदुस्तान की GDP दुनिया में सबसे ज़्यादा थी, जो पूरे दुनिया की GDP की एक चौथाई हिस्सा थी। हिंदुस्तान की इकॉनमी चीन को पीछे छोड़कर पहले नम्बर पर आगई थी, हिंदुस्तान दुनिया का सबसे अमीर मुल्क और सबसे बड़ा मैनुफैक्चरिंग हब बन गया था। हिन्दुस्तान की सालाना आमदनी उस वक्त के 450 मिलियन डॉलर थी जो फ्रांस से 10 गुना ज्यादा थी।
आप इस दौलत का कुछ हिस्सा माल और तोहफे की शक्ल में मक्का मुज़्ज़मा और मदीना मुनव्वरा के गुरबा के लिए भेजा करते।

हज़रत औरंगज़ेब सुन्नी सही उल अक़ीदा सूफियाने किराम को मानने वाले थे, आप हज़रत ख्वाजा ज़ैनुद्दीन शिराज़ी खुल्दाबाद से रूहानी तौर पर मुरीद हुए थे, जो आपसे 300 साल पहले गुज़र चुके थे।
आपकी वसीयत थी कि मरने के बाद मुझे हज़रत के रौज़े के पास उनके कदमो में दफ्न किया जाए जो आज उनकी वसीयत के मुताबिक वही दफ्न है
आपको चिश्ती सिलसिले के बुजुर्गों से इतनी निस्बत थी कि आप हर किसी को ताकीद करते कि चिश्ती सिलसिले के बुजुर्गों की सोहबत में रहा करो।
इसके साथ ही आपको हुज़ूर गौसे आज़म से भी बहोत अकीदत थी।
आपकी मुबारक तलवार पर  "या शैख़ अब्दुल क़ादिर जिलानी शैंलिल्लाह" लिखा था।

आप सिर्फ एक बादशाह ही नही बल्कि हाफ़िज़े कुरान, आलिमे दीन, हदीस के माहिर और अपने वक़्त के मुजद्दीद थे (मुजद्दीद वली कि एक कैटेगिरी है जिसे अल्लाह हर 100 साल मे भेजता है जो अपने वक़्त का सबसे बड़ा वली होता है और उस वक़्त के फ़ितने खत्म करता है)

हज़रत औरंगज़ेब आलमगीर | Hazrat Aurangzeb Alalamgeer

आपने अपनी इस ज़िम्मेदारी को कलम और तलवार दोनों से बखूबी निभाया।
आपका एक एहसान जो उम्मत कभी नही भूल सकती कि फ़िक़्ह ए हनफ़ीया पर मुश्तमिल दुनिया की मशहूर ओ मारूफ किताब जो आज दुनिया की मुख्तलिफ शरई अदालतों में सनद के तौर पर पेश की जाती है,
'फतवा ए आलमगीरी"
उसके मूर्ततिब आप ही है
सैकड़ो उलमा को जमा करवा कर आपने ये किताब लिखवाई जिसमें 8 साल का वक़्त लगा, और उस वक़्त इसमे 2 लाख रुपये का खर्च आया।

इतनी बड़ी सल्तनत के बादशाह होने के बावजूद आप बेहद गरीब थे, जब आपका इंतेक़ाल हुआ तो आपके ऊपर आपकी बहन का डेढ़ रुपये का कर्ज था, जिसे आपकी बहन ने माफ कर दिया था।

और नसीब की बात देखें
एक मशहूर मुअर्रिख अब्राहम एर्ली ने अपनी किताब Emperor's of the Peacock throne में लिखा है कि हज़रत का विसाल जुमा के दिन नमाज़ के दौरान हुआ था।

हमे फख्र है हिन्द की इस सरज़मी पर जहाँ अल्लाह ने हज़रत औरंगज़ेब जैसा बादशाह और मुजद्दीद हमे अता किया।
आज इसी हिन्द की ज़मी पर एक और औरगंज़ेब की ज़रूरत है ज ज़ुल्म और फ़ितने खत्म कर के यहाँ इंसाफ कायम करें।

अल्लाह अपने हबीब के सदके हमे हमारे हिन्द में दुबारा औरंगज़ेब सानी (second) अता करे।
आमीन

हज़रत औरंगज़ेब आलमगीर | Hazrat Aurangzeb Alalamgeer

Yaume Wildat : 3 November 1618, Dahod
Died: 3 March 1707, Bhingar, Ahmednagar
Full name: Muḥī al-Dīn Muḥammad
Reign: 31 July 1658 – 3 March 1707
Spouse: Nawab Bai (m. 1638–1691), Dilras Banu Begum (m. 1637–1657), more
Children: Bahadur Shah I, Muhammad Akbar, Zeb-un-Nissa, Muhammad Azam Shah, more

आफाक अहमद रज़वी ✍🏼

IN ROMAN HINDI


हज़रत औरंगज़ेब आलमगीर | Hazrat Aurangzeb Alalamgeer

Hazarat Aurangazeb Aalamageer Rehmatullah ALaihi
ke urs ke mauke par ek khaas peshakash
✍🏼 Afaaque Rizve ki kalam se 

Hazarat Abul Muzaffar Muheeuddeen Muhammad Aurangazeb Gurakaan Bahaadur Aalamageer Shahanashaahe Hindiya Zinda Peer


Hind kee taareekh mein 50 saal hukoomat karane vaale ek aise baadashaah guzare hai jinhonne Hind kee alag alag riyaasaton ko mila kar ek Hindustaan banaaya jise Hindee mein akhand Bhaarat kaha jaata hai, jisame aaj ka Hind, Pakistan, Bangladesh, Afganistan aur kuchh hissa Barma, Cheen, Tibbat, Nepaal, Bhootaan ka aata tha.

Itnee badee saltanat ke baadashaah hone ke baavajood bhee aap baadashaaho jaisa nahee rahe aapane kabhee saltanat kee daulat se rotee nahee khaee. aap Quraan naksh karate aur usaka hadiya le kar guzaara karate saath hee aap silaee ka kaam karate the aur us se hone vaalee aamdanee se ghar ka chula jalta aur kabhee kabhee apanee bahan se paise udhaar leke tijaarat bhee kiya karate the.

Aapakee beevee malka e Hind theen itnee badee saltanat ke baadashaah kee beevee hone ke baavajood aap khud choolhe par khaana banaatee thee kyonki hazarat ne khaana pakaane ke liye koee naukaraanee ya kaneez nahee rakhee theen ek din jab khaana pakaate vaqt malka saahiba ka haath choolhe mein jal gaya to aap apane shauhar baadashaah Aurangazeb se kahatee hai ki aaj choolhe mein mera haath jal gaya mujhe ek kaneez de deejiye. to huzoor Aurangazeb ne taareekhee javaab dete hue kaha jis din Hindustaan kee har khaatoon ko kaneez mil jaegee usadin tumhe bhee kaneez mil jaegee.

kyonki hazarat ko ye naagavaar guzarata tha ki saltanat kee saaree khaatoon khud kaam kare aur meree beevee ka kaam kaneez kare.  aap itane insaaf pansad the ki insaaf ke maamle mein apane bhaee aur vaalid ke liye bhee vahee faisala kiya jo kisee gair ke liye karte.

हज़रत औरंगज़ेब आलमगीर | Hazrat Aurangzeb Alalamgeer

Ek bahaut pyaara vaakiya hai jise mukhtasar mein bataata chalu kee ek baar aapne ek Hindoo pandit kee betee kee aabroo par gandee nazar daalne vaale musalim kotavaal ko maut kee saza dee aur us bacchee se apnee betee kee tarah pesh aaye.

Aapkee bahaaduree ka ek mashahoor vaakiya hai ki jab aapke daur mein Angrezo ne Mumbai par kabza kar liya tha to aapane Mumbai mein apna lashkar bhej kar Mumbai ke kile ka muhaasera karvaaya aur Angrezo ko itnee buree tarah patakhanee dee ki Angrez aphsaro ne aapake darabaar me ghutane tek kar gidagida ke ro ro kar maaphee maangee is beizzatee ki aavaaz England  ke paarliment mein bhee gunjee.
(ye riport khud England ke news channel BBC ne shaaya kee hai.)

Apke daur mein Hindustaan kee GDP duniya mein sabase zyaada thee, jo poore duniya kee GDP kee ek chauthaee hissa thee. Hindustaan kee Economy China ko peechhe chhodkar pahle nambar par aagee thee, Hindustaan duniya ka sabase ameer mulk aur sabase bada manufacturing Hub ban gaya tha. Hindustaan kee saalaana aamdanee us vakt ke 450 mn Dollar thee jo Fraans se 10 guna jyaada thee. 
Aap is daulat ka kuchh hissa maal aur tohaphe kee shakl mein Makkah Muzzama aur Madeena Munavvara ke guraba ke liye bheja karate.  Hazarat Aurangzeb sunnee sahee ul aqeeda sufyaane kiraam ko maanane vaale the,

Aap Hazarat Khvaaja Zainuddeen Shiraazee Khuldaabaad se roohaanee taur par mureed hue the, jo aapase 300 saal pahale guzar chuke the. aapkee vaseeyat thee ki marane ke baad mujhe hazarat ke rauze ke paas unake kadamo mein dafan kiya jae.
Jo aaj unakee vaseeyat ke mutaabik vahee  dafan hai aapako chishtee silsile ke buzurgon se itanee nisbat thee ki aap har kisee ko taakeed karate ki chishtee silsile ke buzurgon kee sohabat mein raha karo.

Iske saath hee aapako Huzoor Gause Aazam se bhee bahot akeedat thee. aapkee mubaarak talavaar par  "Ya Shaikh Abdul Qaadir Jilaanee Shainlillaah" likha tha. 

Aap sirf ek baadashaah hee nahee balki haafize Quraan, Aalime deen, Hadees ke maahir aur apne vaqt ke Mujaddeed the (Mujaddeed valee ki ek category hai jise Allah har 100 saal me bhejta hai jo apne vaqt ka sabse bada valee hota hai aur us vaqt ke fitne khatm karata hai)  aapne apnee is zimmedaaree ko kalam aur talvaar donon se bakhoobee nibhaaya.

हज़रत औरंगज़ेब आलमगीर | Hazrat Aurangzeb Alalamgeer


Aapaka ek ehasaan jo ummat kabhee nahee bhool sakatee ki fiqh e hanafeeya par mushtamil duniya kee mashahoor o maaroof kitaab jo aaj duniya kee mukhtalif sharaee adaalaton mein sanad ke taur par pesh kee jaatee hai, “Fatava e aalamageeree" uske mooratib aap hee hai saikdno ulama ko jama karava kar aapane ye kitaab likhavaee jisamen 8 saal ka vaqt laga, aur us vaqt isame 2 laakh rupaye ka kharch aaya. 

Itnee badee saltanat ke baadashaah hone ke baavajood aap behad gareeb the, jab aapka inteqaal hua to aapke upar aapkee bahan ka dedh rupaye ka karj tha, jise aapkee bahan ne maaf kar diya tha.  aur naseeb kee baat dekhen ek mashahoor muarrikh Abraaham Erlee ne apanee kitaab Emperor's of the Peacock throne mein likha hai ki hazarat ka visaal juma ke din namaaz ke dauraan hua tha. 

Hame fakhr hai Hind kee is sarzamee par jahaan Allah ne Hazarat Aurangzeb jaisa baadashaah aur mujaddeed hame ata kiya. aaj isee Hind kee zamee par ek aur Aurganzeb kee zaroorat hai jo zulm aur fitane khatm kar ke yahaan insaaf qaayam karen.  Allah apne Habeeb (Swallaho Alaihi wasllam ) ke sadke hame hamaare Hind mein dubaara Aurangazeb saanee (second) ata kare. Aameen 

हज़रत औरंगज़ेब आलमगीर | Hazrat Aurangzeb Alalamgeer

Born: 3 November 1618, Dahod
Died: 3 March 1707, Bhingar, Ahmednagar
Full name: Muḥī al-Dīn Muḥammad
Reign: 31 July 1658 – 3 March 1707
Spouse: Nawab Bai (m. 1638–1691), Dilras Banu Begum (m. 1637–1657), more
Children: Bahadur Shah I, Muhammad Akbar, Zeb-un-Nissa, Muhammad Azam Shah, more

 – Afaque Ahamad Rizvi ✍🏼


                                                                 ***END***

Likhne me bahot ashaqqat lagti hai agar koi galati dekhe to please islah ki niyyat se comment me zarur batae please


Pasand aane ki surat me dost o ahebab ko bhi share Karen, sath HI humare YouTube Channel Islamic Wonders ko bhi zarur visit kare aur subscribe kare.

Isi ke sath ab roukhsat hote hain fir mulaqat hogi ek nay Topic ke sath Allah Hafiz and Jazak Allah



No comments:

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.